Pages

Tuesday, 30 October 2012

Khush hoon... Entry by Pritish Mukherjee, Mudra Institute of Communications Ahmedabad

Heads begin to reel in steady circles,
Thoughts spill over the naked floor...
Lying midless smells rise up the nose,
Tastes and odours of mad love, and oozing fluids...
Shaken, stirred and baked dry, the core begins to fry

Smeared in sweet sweat and brackish saliva
Shining in the sun pouring through the windows,
Eyes glint reflecting each others trembling lips
Subtle touches metamorphosing into violent scratches
The night seems too short for the daunting task at hand


हर शाम के बीतने का इंतज़ार रहता है
गुज़रने से पहले वो रुक के मुस्कुराये,
इस सोच के खंडहर में वो डर रहता है
उस 'तुम' को एक नाम देना चाहता हूँ
इस चाह मैं खोके गुमनाम होना चाहता हूँ .

आँखें बंद करते ही तस्वीर और साफ़ नज़र आती है
उसकी आँखों के तले मसला हुआ काजल नज़र आता है,
दबे होंटों से गुलाब मेहेकते है...
थरथराती उँगलियों का क्या कुसूर,
इन उँगलियों मैं भी तो लहू दिल का ही बहता है!

Her pink taste covered in a fluff of black...
Tangy, maybe sharp; the flesh reacts to the cajoling tongue
Watch her patiently as she arches her back...
Swaying wildly, oscillating: 
The tête-à-tête becomes a dance.
इन यादों के सोच के उबलते बवंडर में खुश हूँ

तुझे दूर से देखूं, पास ना आने दू.
जब पास थी उन धोखों के ग़म में खुश हूँ,
लिपट के तुम्हारे नाकाम इरादों के सायें से,
सिर्फ तुम्हारे जिस्म कि यादों में खुश हूँ.

1 comment:

  1. eww !! Distastefully disgusting.
    Channelize your energies somewhere else dude !
    This is sickly moronic 'indigo'ized mind :-(

    ReplyDelete